Link

Home|Link

आज का विचार

बहुत पहले संजय नाम का एक नवयुवक था, वह हमेशा साधु-महात्माओं का दर्शन किया करता था, उसके लिए वह मठों में तथा तीर्थों में भ्रमण करता था, एक बार वह किसी योगी के साथ रहा, उसकी सेवा से प्रसन्न होकर योगी ने कहा- ’’हे वत्स! यदि तुम्हारी कोई इच्छा हो तो मैं उसे पूरी कर

By |2021-09-30T08:35:53+00:00September 30th, 2021|Media|0 Comments

आज का शुभ विचार

💐💐आज का विचार💐💐 जहाँ प्रेममें स्वार्थका भाव आया वहीं प्रेमका टूटना शुरू हो जाता है, वास्तवमें स्वार्थ और अहंकार ये दोनों ही प्रेममार्गमें बड़ेबाधक हैं, आप सेवा करके किसी को रोग आदि से बचातें हैं, दृव्यादि से किसी की विपत्तिका समन करतें हैं, ये सभी हितपूर्ण कार्य प्रेमकी वृद्धि में परम् सहायक है, किन्तु आप

By |2021-09-30T05:45:01+00:00September 30th, 2021|Media|0 Comments

Never give up hope and hope

Five lamps were burning in a house. A day ago, a lamp said that people do not appreciate my light even after burning so much, so it would be better if I extinguished it, that lamp was extinguished considering itself to be useless, it was a symbol of enthusiasm...   Seeing this, the second lamp

By |2021-09-27T03:58:32+00:00September 27th, 2021|Media|0 Comments

होंसला ओर उम्मीद कभी ना छोड़ें

एक घर मे पांच दिए जल रहे थे, एक दिन पहले एक दिए ने कहा कि इतना जलकर भी मेरी रोशनी की लोगो को कोई कदर नही है, तो बेहतर यही होगा, कि मैं बुझ जाऊं, वह दिया खुद को व्यर्थ समझ कर बुझ गया, वह दिया था उत्साह का प्रतीक था...   यह देख

By |2021-09-27T03:54:07+00:00September 27th, 2021|Media|0 Comments

 नियम का महत्व

 एक संत थे, एक दिन वे एक जाट के घर गए। जाट ने उनकी बड़ी सेवा की। सन्त ने उसे कहा कि रोजाना नाम -जप करने का कुछ नियम ले लो। जाट ने कहा बाबा, हमारे को वक्त नहीं मिलता। सन्त ने कहा कि अच्छा, रोजाना ठाकुर जी की मूर्ति के दर्शन कर आया करो।

By |2021-09-25T12:44:06+00:00September 25th, 2021|Media|0 Comments

गोपियों के श्रीकृष्ण के प्रति प्रेम की एक बहुत सुन्दर कथा

गोपियों के श्रीकृष्ण के प्रति प्रेम की एक बहुत सुन्दर कथा द्वारका में जब भी गोपियों की बात चलती तो श्रीकृष्ण को रोमांच हो आता। आँसू बहने लगते, वाणी गद्गद् हो जाती और वे कुछ बोल नहीं पाते। श्रीकृष्ण की ऐसी दशा देखकर सभी पटरानियों को बड़ा आश्चर्य होता कि हममें ऐसी क्या कमी है

By |2021-09-24T03:22:31+00:00September 24th, 2021|Media|0 Comments

साधु की निंदा का फल

   साधु की निंदा का फल   राजा पृथु एक दिन सुबह सुबह घोड़ों के तबेले में जा पहुंचे। तभी वहां एक साधु भिक्षा मांगने आ पहुंचा। सुबह सुबह साधु को भिक्षा मांगते देख पृथु क्रोध से भर उठे। उन्होंने साधु की निंदा करते हुए बिना विचार किये ही तबेले से घोडे की लीद उठाई

By |2021-09-19T14:00:21+00:00September 19th, 2021|Media|0 Comments

क्या भगवान हमारे द्वारा चढ़ाया गया भोग खाते हैं

क्या भगवान हमारे द्वारा चढ़ाया गया भोग खाते हैं ?   यदि खाते हैं, तो वह वस्तु समाप्त क्यों नहीं होती ?   और यदि नहीं खाते हैं, तो भोग लगाने का क्या लाभ ?   एक लड़के ने पाठ के बीच में अपने गुरु से यह प्रश्न किया....   गुरु ने तत्काल कोई उत्तर

By |2021-09-15T15:01:26+00:00September 15th, 2021|Media|0 Comments

कर भला तो हो भला

*कर भला तो हो भला* एक प्रसिद्ध राजा हुआ करते थे जिनका नाम रामधन था। अपने नाम की ही तरह प्रजा सेवा ही उनका धर्म था। उनकी प्रजा भी उन्हें राजा राम की तरह सम्मान देती थी। राजा रामधन सभी की निष्काम भाव से सहायता करते थे फिर चाहे वो उनके राज्य की प्रजा हो

By |2021-09-14T02:28:31+00:00September 14th, 2021|Media|0 Comments

मैं ना होता तो क्या होता

💐💐मैं न होता, तो क्या होता💐💐   “अशोक वाटिका" में जिस समय रावण क्रोध में भरकर, तलवार लेकर, सीता माँ को मारने के लिए दौड़ पड़ा,तब हनुमान जी को लगा, कि इसकी तलवार छीन कर, इसका सर काट लेना चाहिये!   किन्तु, अगले ही क्षण, उन्हों ने देखा मंदोदरी" ने रावण का हाथ पकड़ लिया

By |2021-09-05T04:57:46+00:00September 5th, 2021|Media|0 Comments

Top Sliding Bar

This Sliding Bar can be switched on or off in theme options, and can take any widget you throw at it or even fill it with your custom HTML Code. Its perfect for grabbing the attention of your viewers. Choose between 1, 2, 3 or 4 columns, set the background color, widget divider color, activate transparency, a top border or fully disable it on desktop and mobile.

Recent Tweets

Newsletter

Sign-up to get the latest news and update information. Don’t worry, we won’t send spam!
Thank you for your message. It has been sent.
There was an error trying to send your message. Please try again later.
Go to Top