blog

Home|blog|

साधु की निंदा का फल

By |2021-09-19T14:00:21+00:00September 19th, 2021|Media|

   साधु की निंदा का फल   राजा पृथु एक दिन सुबह सुबह घोड़ों के तबेले में जा पहुंचे। तभी वहां एक साधु भिक्षा मांगने आ पहुंचा। सुबह सुबह साधु को भिक्षा मांगते देख पृथु क्रोध से भर उठे। उन्होंने साधु की निंदा करते हुए बिना विचार किये ही तबेले से घोडे की लीद उठाई

क्या भगवान हमारे द्वारा चढ़ाया गया भोग खाते हैं

By |2021-09-15T15:01:26+00:00September 15th, 2021|Media|

क्या भगवान हमारे द्वारा चढ़ाया गया भोग खाते हैं ?   यदि खाते हैं, तो वह वस्तु समाप्त क्यों नहीं होती ?   और यदि नहीं खाते हैं, तो भोग लगाने का क्या लाभ ?   एक लड़के ने पाठ के बीच में अपने गुरु से यह प्रश्न किया....   गुरु ने तत्काल कोई उत्तर

कर भला तो हो भला

By |2021-09-14T02:28:31+00:00September 14th, 2021|Media|

*कर भला तो हो भला* एक प्रसिद्ध राजा हुआ करते थे जिनका नाम रामधन था। अपने नाम की ही तरह प्रजा सेवा ही उनका धर्म था। उनकी प्रजा भी उन्हें राजा राम की तरह सम्मान देती थी। राजा रामधन सभी की निष्काम भाव से सहायता करते थे फिर चाहे वो उनके राज्य की प्रजा हो

मैं ना होता तो क्या होता

By |2021-09-05T04:57:46+00:00September 5th, 2021|Media|

💐💐मैं न होता, तो क्या होता💐💐   “अशोक वाटिका" में जिस समय रावण क्रोध में भरकर, तलवार लेकर, सीता माँ को मारने के लिए दौड़ पड़ा,तब हनुमान जी को लगा, कि इसकी तलवार छीन कर, इसका सर काट लेना चाहिये!   किन्तु, अगले ही क्षण, उन्हों ने देखा मंदोदरी" ने रावण का हाथ पकड़ लिया

महाराजा चन्द्रगुप्त का दरबार

By |2021-08-20T04:46:35+00:00August 20th, 2021|Media|

    महाराजा चन्द्रगुप्त का दरबार लगा हुआ था। सभी सभासद अपनी अपनी जगह पर विराजमान थे। महामन्त्री चाणक्य दरबार की कार्यवाही कर रहे थे।   महाराजा चन्द्र्गुप्त को खिलौनों का बहुत शौक था। उन्हें हर रोज़ एक नया खिलौना चाहिए था। आज भी महाराजा के पूछने पर कि क्या नया है; पता चला कि

स्वर्ग के दर्शन

By |2021-08-19T09:16:37+00:00August 19th, 2021|Media|

*💐💐स्वर्ग के दर्शन💐💐*       लक्ष्मीनारायण बहुत भोला लड़का था | वह प्रतिदिन रात में सोने से पहले अपनी दादी से कहानी सुनाने को कहता था | दादी उसे नागलोक, पाताल लोक, चंद्र लोक, सूर्य लोक, आदि की कहानी सुनाया करती थी | एक दिन दादी ने उसे स्वर्ग का वर्णन सुनाया | स्वर्ग

” श्री चरणों से जिनका संम्बंध है, वहां आनंद ही आनन्द हैं “

By |2021-08-17T03:55:22+00:00August 17th, 2021|Media|

"श्री चरणों से जिनका संम्बंध है, वहां आनंद ही आनन्द हैं"   यह कहानी एक आदमी कि है जो एक लम्बी हवाई यात्रा करके आ रहा था। हवाई यात्रा ठीक ठाक चल रही थी तभी एक उदघोष हुआ कि कृपया अपनी सीट बेल्ट बांध लें क्योंकि कुछ समस्या आ सकती है। तभी एक और उदघोष

” जिंदगी की हकीकत “

By |2021-08-17T01:49:46+00:00August 17th, 2021|Media|

    एक दिन स्कूल में छुट्टी की घोषणा होने के कारण, एक दर्जी का बेटा, अपने पापा की दुकान पर चला गया, वहाँ जाकर वह बड़े ध्यान से अपने पापा को काम करते हुए देखने लगा।   उसने देखा कि उसके पापा कैंची से कपड़े को काटते हैं, और कैंची को पैर के पास

मेरा हिंदुस्तान

By |2021-07-30T14:37:33+00:00July 30th, 2021|Media|

*जिसपर था सर्वस्व लुटाया,* *मेरा वो अरमान कहां है?* *बोलो नेहरू बोलो गांधी,* *मेरा हिन्दुस्तान कहां है?*     *सैंतालीस में भारत बांटा,* *'उनको' पाकिस्तान दे दिया;* *"दो गालों पे थप्पड़ खा लो"* *मुझे फालतू ज्ञान दे दिया;* *मुझे बताओ यही ज्ञान तुम,* *'उनको' भी तो दे सकते थे;* *नहीं बंटेगी भारत माता,* *ये निर्णय

स्वर्ग की मिट्टी का संदेश

By |2021-07-01T14:07:18+00:00July 1st, 2021|Media|

एक पापी इन्सान मरते वक्त बहुत दुख और पीड़ा भोग रहा था, लोग वहाँ काफी संख्या मेँ इकट्ठे हो गये।   वहीँ पर एक महापुरूष आ गये, पास खड़े लोगोँ ने महापुरूष से पूछा कि आप इसका कोई उपाय बतायेँ, जिससे यह पीड़ा से मुक्त होकर प्राण त्याग दे और ज्यादा पीड़ा ना भोगे।  

Top Sliding Bar

This Sliding Bar can be switched on or off in theme options, and can take any widget you throw at it or even fill it with your custom HTML Code. Its perfect for grabbing the attention of your viewers. Choose between 1, 2, 3 or 4 columns, set the background color, widget divider color, activate transparency, a top border or fully disable it on desktop and mobile.

Recent Tweets

Newsletter

Sign-up to get the latest news and update information. Don’t worry, we won’t send spam!
Thank you for your message. It has been sent.
There was an error trying to send your message. Please try again later.
Go to Top